June 16, 2024

GarhNews

Leading News Portal of Garhwal Uttarakhand

दारोगा भर्ती प्रकरण में नकलची दारोगाओं पर शिकंजा कसने की तैयारी, विजिलेंस ने परीक्षा करने वाले स्टाफ को किया तलब, चल रही है पूछताछ, अब तक 20 दारोगा हो चुके हैं निलंबित

Spread the love

देहरादून: दारोगा भर्ती धांधली मामले में विजिलेंस ने जांच को आगे बढ़ाते हुए परीक्षा करवाने वाले स्टाफ को पूछताछ के लिए देहरादून तलब कर लिया है। विजिलेंस निदेशक डा. मुरुगेशन ने एसपी मुख्यालय रेनू लोहानी की देखरेख में एक टीम का गठन किया है। शनिवार को टीम ने छह व्यक्तियों से पूछताछ की। विजिलेंस जल्द ही मामले के नामजद आरोपितों और निलंबित हुए 20 दारोगाओं को भी पूछताछ के लिए बुला सकती है। विजिलेंस जल्द ही कुछ आरोपितों की गिरफ्तारी भी कर सकती है।

उत्तराखंड अधीनस्थ चयन सेवा आयोग (यूकेएसएसएसी) की ओर से कराई गई भर्तियों की जांच में पिछले साल दारोगा भर्ती धांधली का भी पर्दाफाश हुआ था। कुछ दारोगाओं की फोटो नकल माफिया हाकम सिंह रावत के साथ वायरल होने के बाद भर्ती में धांधली का संदेश हुआ। पता चला कि 339 पदों के लिए 2015 में हुई दारोगाओं की सीधी भर्ती में 30 से भी ज्यादा दारोगा नकल कर पास हुए थे। यह परीक्षा पंतनगर विवि के माध्यम से आयोजित की गई थी। शुरुआती जांच के बाद विजिलेंस ने अक्टूबर 2022 के दौरान विवि के डीन (अब सेवानिवृत्त) नरेंद्र सिंह जादौन, हाकम सिंह, आरएमएस कंपनी के मालिक राजेश चौहान समेत आठ आरोपितों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था।

जांच को आगे बढ़ाते हुए विजिलेंस की ओर से जनवरी 2023 में 20 दारोगाओं को निलंबित भी कर दिया गया। प्रकरण में अभी तक विजिलेंस किसी ठोस नतीजे पर नहीं पहुंची थी। अब इस मामले में कार्रवाई तेज कर दी गई है। विजिलेंस जांच में परीक्षा आयोजित कराने वाले कुल छह लोगों के नाम सामने आए हैं। इन लोगों को शनिवार को विजिलेंस कार्यालय बुलाया गया था। सुबह करीब 10 बजे से शाम छह बजे तक उनसे पूछताछ की गई। इसके बाद रविवार को भी इन लोगों को पूछताछ के लिए बुलाया गया है। इस मामले में आरोपियों के बयान दर्ज करने के लिए भी उन्हें नोटिस जारी किए जाएंगे। साथ ही कुछ दारोगाओं से भी जल्द पूछताछ हो सकती है।

About Author