June 15, 2024

GarhNews

Leading News Portal of Garhwal Uttarakhand

पुलिस लाइन देहरादून में व्यवस्थाओं का जायजा लेते एसएसपी अजय सिंह।

इस बार भव्य तरीके से मनाया जाएगा राज्य स्थापना दिवस, पहली बार राष्ट्रपति करेंगी शिरकत, परेड में नजर आएगी झांकियां, ऐसे रहेगा कार्यक्रम का शेड्यूल

Spread the love

देहरादून: उत्तराखंड का 23वां स्थापना दिवस एतिहासिक होगा। राज्य बनने के बाद पहली बार राष्ट्रपति स्थापना दिवस पर होने वाली रैतिक परेड में शिरकत करेंगी। करीब दो घंटे राष्ट्रपति कार्यक्रम में रहेंगी और परेड का निरीक्षण करेंगी। इसके अलावा रैतिक परेड में पहली बार झांकियां भी दिखेंगी, जिसमें विभिन्न विभागों की ओर से चलाए जा रहे विकास कार्यों को प्रदर्शित किया जाएगा।

पुलिस लाइन में आयोजित राज्य स्तरीय कार्यक्रम में मुख्य तौर पर राष्ट्रपति द्रीपदी मुर्मू विशेष तौर पर पहुंचे रही हैं, ऐसे में सरकार कार्यक्रम को भव्य बनाने का रही है। इस दौरान आठ विभागों की ओर से विकास कार्यों दर्शाती झांकियां भी तैयार की गई हैं। इनमें ग्राम्य विभाग, पर्यटन विभाग, कृषि विभाग, उद्यान विभाग, यूपीसीएल, बाल विकास विभाग, उद्योग व सूचना प्रौद्योगिकी झांकियां शामिल होंगी। झांकियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। इसके अलावा उत्तराखंड की उपलब्धियों के बारे में लघु फिल्म का प्रदर्शन किया जाएगा।

यह रहेगा मिनट टू मिनट कार्यक्रम
नौ नवंबर को साढ़े नौ बजे राष्ट्रपति का पुलिस लाइन में आगमन होगा। इसके बाद वह परेड का निरीक्षण करेंगी। सवा 10 बजे मुख्यमंत्री राष्ट्रपति का स्वागत करते हुए स्मृति चिन्ह भेंट करेंगे। साढ़े 10 बजे उत्तराखंड की उपलब्धियों के बारे में लघु फिल्म का प्रदर्शन, उत्तराखंड गौरव सम्मान पुरस्कार वितरण, पौने 11 बजे राष्ट्रपति का संबोधन, 10 बजकर 55 मिनट पर परेड व विभिन्न विभागों की झांकियां, 11 बजे सांस्कृतिक कार्यक्रम, 11 बजकर 10 मिनट पर साहसिक प्रदर्शन एवं राष्ट्रगान और 11 बजकर 20 मिनट पर राष्ट्रपति का प्रस्थान होगा।

चप्पे-चप्पे पर तैनात रहेगा पुलिस बल
स्थापना दिवस पर राष्ट्रपति के आगमन को लेकर चौतरफा सुरक्षा कड़ी की गई है। राजभवन से लेकर पुलिस लाइन तक चप्पे-चप्पे पर सुरक्षाकर्मी तैनात रहेंगे। वहीं पुलिस लाइन में हर आने व जाने वालों पर कड़ी नजर रहेगी। कार्यक्रम में शिरकत करने वालों को कम से कम तीन घंटे पहले आना होगा। कार्यक्रम स्थल के आसपास भी सुरक्षा का घेरा कड़ा रहेगा।

About Author