June 16, 2024

GarhNews

Leading News Portal of Garhwal Uttarakhand

रजिस्ट्री घोटाला : हेंडराइटिंग एक्सपर्ट गिरफ्तार, मुजफ्फरनगर के रहने वाले अजय मोहन पालीवाल को एसआइटी ने देहरादून के वसंत विहार से किया गिरफ्तार, फर्जी रजिस्ट्रियों में करवाता था हस्ताक्षर

Spread the love

देहरादून: रजिस्ट्री फर्जीवाड़े में एसआइटी ने फर्जी रजिस्ट्री में शामिल हेंड राइटिंग एक्सपर्ट को गिरफ्तार कर लिया है। हेंड राइटिंग एक्सपर्ट आरोपी अजय मोहन पालीवाल निवासी आर्दश कालोनी, मुजफ्फरनगर यूपी वर्तमान निवासी हरभजवाला, बसंत विहार को देहरादून से गिरफ्तार किया है। अजय मोहन पालीवाल सहारनपुर के भूमाफिया केपी सिंह व अधिवक्ता कमल विरमानी का नजदीकी है, जोकि यूपी का मशहूर हेंड राइटिंग एक्सपर्ट है। पालीवाल ही फर्जी रजिस्ट्री पर हुबहू हस्ताक्षर करता था, जिन्हें जिल्द में लगाया जाता था। प्रकरण में यह 13वीं गिरफ्तारी है।

प्रकरण के मुख्य आरोपी कुंवरपाल, अधिवक्ता कमल विरमानी और इमरान की गिरफ्तारी के बाद जब एसआइटी ने आरोपी को पुलिस रिमांड पर लेकर तीनों से पूछताछ की तो पता चला कि अजय मोहन पालीवाल ही रजिस्ट्रियों पर फर्जी हस्ताक्षर करता था। कुंवरपाल हेंड राइटिंग एक्सपर्ट पालीवाल को पहले से ही जानता था। कुंवरपाल ने जब अधिवक्ता कमल विरमानी के साथ मिलकर रजिस्ट्रियों का फर्जीवाड़ा करना शुरू किया तो उन्हें एक ऐसे एक्सपर्ट की तलाश थी जोकि सब रजिस्ट्रार कार्यालय में पड़ी पुरानी रजिस्ट्रियों में किए हुबहू हस्ताक्षर फर्जी रजिस्ट्रियों में कर सके। इसके लिए उन्होंने अजय मोहन पालीवाल से संपर्क किया।

आरोपी पुराने स्टांप पर पुरानी रजिस्ट्रियों की नकल करते थे। इसके बाद कमल विरमानी के मुंशी रोहताश को फर्जी रजिस्ट्री पर हस्ताक्षर करवाने के लिए मुजफ्फरनगर भेजा जाता था। रोहताश आरोपी पालीवाल से हस्ताक्षर करवाने के लिए जाता था और हस्ताक्षर करवाकर लाता था। इसके बाद फर्जी रजिस्ट्री उप रजिस्ट्रार कार्यालय की जिल्द में लगाकर वहां से असली रजिस्ट्री बाहर निकाली जाती थी। बीते दिनों अधिवक्ता कमल विरमानी की जमानत पर सुनवाई के दौरान शासकीय अधिवक्ता ने भी इस बात का जिक्र किया था।

फारेंसिक साइंस से एमएससी पास है अजय मोहन

पुलिस के अनुसार गिरफ्तार किया गया आरोपी अजय मोहन पालीवाल फारेंसिक साइंस से एमएससी पास है। वह हेंडराइटिंग एक्सपर्ट के तौर पर अपनी रिपोर्ट देता था। कुंवरपाल के साथ मिलकर उसने फर्जी रजिस्ट्री में भी हस्ताक्षर करने शुरू कर दिए। सूत्रों की मानें तो आरोपी ने सहारनपुर में भी कुछ फर्जी रजिस्ट्रियों में हस्ताक्षर किए हैं। पुलिस आरोपी से जानकारी हासिल कर रही है कि अब तक वह कितनी रजिस्ट्रियों में हस्ताक्षर कर चुका है।

About Author